diwali 2023

1.) Introduction to Diwali

Diwali, also known as Deepavali, is one of the most widely celebrated festivals in India and among the Indian diaspora around the world. It is a vibrant and joyous festival that lasts for five days, illuminating the country with lights and colours.

The name Diwali is derived from the Sanskrit word “Deepavali”, meaning “row of lamps.” This festival symbolizes the victory of light over darkness and good over evil. People light oil lamps and decorate their homes with colorful rangoli, set off fireworks, exchange gifts and share festive food. Diwali is a time for families to come together and celebrate the triumph of positivity

HAPPY DIWALI

 

2) Historical Background Diwali is a festival with a rich and diverse historical background. It is celebrated by Hindus, Jains, Sikhs and Buddhists alike, and each religion has its own unique traditions and stories associated with the holiday.

One of the most popular stories associated with Diwali is the story of Lord Rama’s return to Ayodhya after defeating the demon king Ravana. According to Hindu mythology, Rama was exiled to Ayodhya for 14 years and during that time his wife Sita was kidnapped by Ravana.

Rama ultimately defeated Ravana and rescued Sita, and when he returned to Ayodhya, people celebrated his homecoming by lighting oil lamps and candles. This is the reason why Diwali is also called the festival of lights.

Another popular story of Diwali is the story of Lord Krishna’s victory over the demon king Narakasura. Narakasura was a powerful and cruel demon who terrorized the people of the kingdom, but Lord Krishna defeated him and freed the people from his tyranny. Diwali is also celebrated to commemorate this victory.

Apart from these Hindu stories, Diwali is also celebrated by other religions in India. For Sikhs, Diwali commemorates the release of the sixth Guru, Hargobind Singh, from Mughal captivity. For Jains, Diwali celebrates the attainment of moksha (liberation) by Mahavira, the founder of Jainism. For Buddhists, Diwali marks the conversion of Emperor Ashoka to Buddhism.

Regardless of one’s religious beliefs, Diwali is a time of celebration and happiness. It is a time for family and friends to come together, decorate homes and businesses with lights and flowers, and exchange gifts. Diwali is also a time for reflection and introspection. It is a time to celebrate the good things in our lives and strive to become better people

https://youtu.be/aZj-MEqy2CM?si=NnHd54-xOvVVfjtL
3) Rituals and traditions
Diwali, the festival of lights, is a time of celebration and happiness for people of all ages and backgrounds. The festival is celebrated with a variety of rituals and traditions, some of which are common to all regions of India, while others are specific to certain regions and communities.

One of the most important rituals of Diwali is Lakshmi Puja, a ceremony to worship Lakshmi, the Hindu goddess of wealth and prosperity. The puja is usually performed on the third day of Diwali, and involves offering offerings to Lakshmi and praying for her blessings.

Another important ritual of Diwali is lighting diyas (oil lamps). Diyas are lit in homes, temples and public places, and symbolize the victory of good over evil and light over darkness.

Apart from Lakshmi Puja and lighting lamps, Diwali also has many other rituals and traditions. Some of these include:

Decorating homes and businesses with lights, flowers and rangoli (traditional Indian floor art)
Exchanging gifts with family and friends
eating a variety of sweet and salty dishes
set off fireworks

Diwali is a time to gather with loved ones and celebrate the good things in life. The rituals and traditions of the festival reflect the diversity and richness of Indian culture, and help create a sense of community and belonging.

4) Importance of Diwali

Diwali has deep significance in Hinduism, Jainism and Sikhism. For Hindus, it marks the victory of Lord Rama on his return to Ayodhya, and the festival is dedicated to Lakshmi, the goddess of wealth. For Jains, it symbolizes the enlightenment of Lord Mahavira. Sikhs celebrate Diwali as Prisoner’s Release Day to commemorate the release of Guru Hargobind Ji from imprisonment. Beyond the religious aspects, Diwali is a time for families to bond, for people to remove negativity from their homes and lives, and for businesses to start their financial year afresh. It promotes unity, joy and gratitude.


5) Preparation for Diwali

Preparations for Diwali begin several weeks before the festival. Homes and businesses are thoroughly cleaned and decorated with lights, flowers and rangoli (traditional Indian floor art). New clothes and utensils are purchased, and gifts are prepared for family and friends.

One of the most important aspects of Diwali preparation is cleaning the house. This is done to welcome Lakshmi, the goddess of wealth and prosperity, into the home. The house is swept, mopped and cleaned and all unwanted items are removed.

Once the house is clean, it’s time to decorate it. Lights are lit inside and outside the house, and flowers and rangoli are decorated on the floor and windows. Rangoli is a traditional Indian art that involves creating intricate designs using colored powder or rice.

Diwali is also a time for feasting, so people start preparing their favorite dishes weeks in advance. Some of the most popular Diwali dishes include sweets like Jalebi and Laddu and savory dishes like Biryani and Samosa.

Gifts are also exchanged during Diwali. People give gifts to family, friends and neighbours. Gifts can include anything from sweets and clothing to jewelery and electronics.

In the days leading up to Diwali, there is a feeling of excitement and anticipation in the air. People are busy cleaning, decorating and preparing food. The streets are filled with people shopping for gifts and the sound of fireworks.

Diwali is a time of celebration and happiness and its preparations reflect the importance of this festival in Indian culture.

6) Diwali Celebration

Festivals are created to strengthen stronger bonds between families and friends and Diwali is the best example of this. For Diwali everyone goes home and celebrates it with their families. It is a national holiday, so everyone enjoys the festival without worrying about work.

It becomes more exciting at night as a lot of sky-lanterns are released into the air which fly high and illuminate the night sky. Diwali teaches us to have patience for the good things in life.

Children wait for days to enjoy their favorite sweets. The houses are thoroughly cleaned to free them from dirt. Cleanliness is very important as it will determine your well-being and health. It has been a part of Hindu culture for a very long time and promotes the moral lesson of “good people always triumph over bad people”.

7) Diwali sweets and dishes

Diwali is synonymous with delicious sweets and delicious dishes. Families enjoy a variety of traditional and home-made dishes during this festive season. Sweets like gulab jamun, jalebi and rasgulla, as well as salty snacks like samosas and pakodas are also prepared in abundance. Special dishes like biryani, puri and various regional dishes are also served. Each region in India has its own unique Diwali cuisine, making it a delightful trip for foodies.

Exchanging these delicious dishes among friends and family is a sweet gesture that symbolizes sharing of happiness and sweetness in life.

8) Diwali 2023: What’s special

Here are some things that make Diwali 2023 special from the perspective of the human mind:

Diwali 2023 is a time to celebrate with loved ones the victory of good over evil, light over darkness and knowledge over ignorance. It is time to put aside our differences and focus on the things that unite us.
Diwali 2023 is a time to reflect on the past year and look to the future with hope. It’s a time to be grateful for the good things in our lives and set new goals for the year ahead.
Diwali 2023 is a time to celebrate our culture and heritage. It is a time to learn about the traditions and customs of Diwali and pass them on to future generations.
Diwali 2023 is a time to enjoy the beauty of the festival and the delicious food that comes with it. It is a time to illuminate our homes and businesses with lamps and candles and set off fireworks to celebrate the joy of the occasion.

In short, Diwali 2023 is a special time for people of all ages and backgrounds to come together and celebrate the good things in life. It is a time to spread hope, happiness and prosperity.

9) Diwali around the world

The weeks before Diwali are traditionally a time for redecorating the home, buying new clothes and jewelery and exchanging gifts such as sweets, dry fruits and dry fruits. It’s the season of dinner parties, outdoor food festivals and craft fairs, which help build excitement before the main Diwali festivities.

Expect drinks and plenty of finger food at these parties, which will usually include kebabs, fried salty snacks, tandoori grills and spicy sweets.

10) Conclusion

Diwali is a time of celebration, reflection and hope. It is a time to gather with loved ones and celebrate the good things in life. It is also a time to reflect on the past year and look to the future with optimism.

As soon as Diwali ends, we say goodbye to the festival and get back to normalcy. However, the spirit of Diwali lives on in our hearts. We carry with us the lessons of the festival, reminding ourselves that good will always triumph over evil and light will always triumph over darkness.

We wish you all a happy and prosperous Diwali!

 

1)दिवाली का परिचय

दिवाली, जिसे दीपावली के नाम से भी जाना जाता है, भारत और दुनिया भर में भारतीय प्रवासियों के बीच सबसे व्यापक रूप से मनाए जाने वाले त्योहारों में से एक है। यह एक जीवंत और आनंदमय त्योहार है जो पांच दिनों तक चलता है, जो देश को रोशनी और रंगों से जगमगाता है।

दिवाली का नाम संस्कृत शब्द “दीपावली” से लिया गया है, जिसका अर्थ है “दीपकों की पंक्ति।” यह त्यौहार अंधकार पर प्रकाश और बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। लोग तेल के दीपक जलाते हैं और अपने घरों को रंग-बिरंगी रंगोली से सजाते हैं, आतिशबाजी करते हैं, उपहारों का आदान-प्रदान करते हैं और उत्सव के भोजन साझा करते हैं। दिवाली परिवारों के एक साथ आने और सकारात्मकता की जीत का जश्न मनाने का समय है।

2) ऐतिहासिक पृष्ठभूमि दिवाली एक समृद्ध और विविध ऐतिहासिक पृष्ठभूमि वाला त्योहार है। यह हिंदू, जैन, सिख और बौद्धों द्वारा समान रूप से मनाया जाता है, और प्रत्येक धर्म की छुट्टियों से जुड़ी अपनी अनूठी परंपराएं और कहानियां हैं।

दिवाली से जुड़ी सबसे लोकप्रिय कहानियों में से एक राक्षस राजा रावण को हराने के बाद भगवान राम की अयोध्या वापसी की कहानी है। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, राम को 14 साल के लिए अयोध्या से वनवास दिया गया था और उस दौरान उनकी पत्नी सीता का रावण ने अपहरण कर लिया था।

राम ने अंततः रावण को हराया और सीता को बचाया, और जब वे अयोध्या लौटे, तो लोगों ने तेल के दीपक और मोमबत्तियाँ जलाकर उनकी घर वापसी का जश्न मनाया। यही कारण है कि दिवाली को रोशनी का त्योहार भी कहा जाता है।

दिवाली की एक और लोकप्रिय कहानी राक्षस राजा नरकासुर पर भगवान कृष्ण की जीत की कहानी है। नरकासुर एक शक्तिशाली और क्रूर राक्षस था जिसने राज्य के लोगों को आतंकित किया था, लेकिन भगवान कृष्ण ने उसे हराया और लोगों को उसके अत्याचार से मुक्त कराया। इस जीत की याद में दिवाली भी मनाई जाती है.

इन हिंदू कहानियों के अलावा, दिवाली भारत में अन्य धर्मों द्वारा भी मनाई जाती है। सिखों के लिए, दिवाली छठे गुरु, हरगोबिंद सिंह की मुगल कैद से रिहाई की याद दिलाती है। जैनियों के लिए, दिवाली जैन धर्म के संस्थापक महावीर द्वारा मोक्ष (मुक्ति) की प्राप्ति का जश्न मनाती है। बौद्धों के लिए, दिवाली सम्राट अशोक के बौद्ध धर्म में परिवर्तन का प्रतीक है।

किसी की धार्मिक मान्यताओं के बावजूद, दिवाली उत्सव और खुशी का समय है। यह परिवार और दोस्तों के साथ आने, घरों और व्यवसायों को रोशनी और फूलों से सजाने और उपहारों का आदान-प्रदान करने का समय है। दिवाली चिंतन और आत्मनिरीक्षण का भी समय है। यह हमारे जीवन में अच्छी चीजों का जश्न मनाने और बेहतर इंसान बनने का प्रयास करने का समय है

3) अनुष्ठान और परंपराएँ
दिवाली, रोशनी का त्योहार, सभी उम्र और पृष्ठभूमि के लोगों के लिए उत्सव और खुशी का समय है। यह त्यौहार विभिन्न प्रकार के अनुष्ठानों और परंपराओं के साथ मनाया जाता है, जिनमें से कुछ भारत के सभी क्षेत्रों के लिए सामान्य हैं, जबकि अन्य कुछ विशेष क्षेत्रों और समुदायों के लिए विशिष्ट हैं।

दिवाली के सबसे महत्वपूर्ण अनुष्ठानों में से एक है लक्ष्मी पूजा, धन और समृद्धि की हिंदू देवी लक्ष्मी की पूजा करने का एक समारोह। पूजा आमतौर पर दिवाली के तीसरे दिन की जाती है, और इसमें लक्ष्मी को प्रसाद चढ़ाना और उनके आशीर्वाद के लिए प्रार्थना करना शामिल है।

दीवाली की एक और महत्वपूर्ण रस्म दीये (तेल के दीपक) जलाना है। दीये घरों, मंदिरों और सार्वजनिक स्थानों पर जलाए जाते हैं, और बुराई पर अच्छाई और अंधकार पर प्रकाश की विजय का प्रतीक हैं।

लक्ष्मी पूजा और दीये जलाने के अलावा, दिवाली की कई अन्य रस्में और परंपराएं भी हैं। इनमें से कुछ में शामिल हैं:

घरों और व्यवसायों को रोशनी, फूलों और रंगोली से सजाना (पारंपरिक भारतीय फर्श कला)
परिवार और दोस्तों के साथ उपहारों का आदान-प्रदान
तरह-तरह के मीठे और नमकीन व्यंजन खाना
आतिशबाजी करना

दिवाली प्रियजनों के साथ मिलने और जीवन में अच्छी चीजों का जश्न मनाने का समय है। त्योहार के अनुष्ठान और परंपराएं भारतीय संस्कृति की विविधता और समृद्धि को दर्शाती हैं, और समुदाय और अपनेपन की भावना पैदा करने में मदद करती हैं।

4) दिवाली का महत्व

हिंदू धर्म, जैन धर्म और सिख धर्म में दिवाली का गहरा महत्व है। हिंदुओं के लिए, यह भगवान राम की अयोध्या वापसी की जीत का प्रतीक है, और यह त्योहार धन की देवी लक्ष्मी को समर्पित है। जैनियों के लिए, यह भगवान महावीर के ज्ञानोदय का प्रतीक है।

गुरु हरगोबिंद जी की कारावास से रिहाई के उपलक्ष्य में सिख दिवाली को बंदी छोड़ दिवस के रूप में मनाते हैं। धार्मिक पहलुओं से परे, दिवाली परिवारों के लिए एक बंधन में बंधने, लोगों के लिए अपने घरों और जीवन से नकारात्मकता को दूर करने और व्यवसायों के लिए अपने वित्तीय वर्ष को नए सिरे से शुरू करने का समय है। यह एकता, आनंद और कृतज्ञता को बढ़ावा देता है।

5) दिवाली की तैयारी

दिवाली की तैयारियां त्योहार से कई हफ्ते पहले से ही शुरू हो जाती हैं। घरों और व्यवसायों को अच्छी तरह से साफ किया जाता है और रोशनी, फूलों और रंगोली (पारंपरिक भारतीय फर्श कला) से सजाया जाता है। नए कपड़े और बर्तन खरीदे जाते हैं, और परिवार और दोस्तों के लिए उपहार तैयार किए जाते हैं।

दिवाली की तैयारी का सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक है घर की सफाई। यह घर में धन और समृद्धि की देवी लक्ष्मी का स्वागत करने के लिए किया जाता है। घर में झाड़ू लगाई जाती है, पोछा लगाया जाता है और साफ़-सफ़ाई की जाती है और सभी अवांछित वस्तुओं को हटा दिया जाता है।

एक बार जब घर साफ हो जाए तो उसे सजाने का समय आ जाता है। घर के अंदर और बाहर रोशनी की जाती है, और फर्श और खिड़कियों पर फूल और रंगोली सजाई जाती है। रंगोली एक पारंपरिक भारतीय कला है जिसमें रंगीन पाउडर या चावल का उपयोग करके जटिल डिजाइन बनाना शामिल है।

दिवाली दावत का भी समय है, इसलिए लोग हफ्तों पहले से ही अपने पसंदीदा व्यंजन तैयार करना शुरू कर देते हैं। दिवाली के कुछ सबसे लोकप्रिय व्यंजनों में जलेबी और लड्डू जैसी मिठाइयाँ और बिरयानी और समोसा जैसे स्वादिष्ट व्यंजन शामिल हैं।

दिवाली के दौरान उपहारों का आदान-प्रदान भी किया जाता है। लोग परिवार, दोस्तों और पड़ोसियों को उपहार देते हैं। उपहारों में मिठाइयों और कपड़ों से लेकर आभूषण और इलेक्ट्रॉनिक्स तक कुछ भी शामिल हो सकता है।

दिवाली से पहले के दिनों में, हवा में उत्साह और प्रत्याशा की भावना होती है। लोग सफाई, सजावट और भोजन तैयार करने में व्यस्त हैं। सड़कें उपहारों की खरीदारी करने वाले लोगों और आतिशबाजी की आवाज़ से भरी हुई हैं।

दिवाली उत्सव और खुशी का समय है और इसकी तैयारियां भारतीय संस्कृति में इस त्योहार के महत्व को दर्शाती हैं।

6) दिवाली समारोह

त्योहारों को परिवारों और दोस्तों के बीच मजबूत संबंधों को मजबूत करने के लिए बनाया गया है और दिवाली इसका सबसे अच्छा उदाहरण है। दिवाली के लिए हर कोई घर जाता है और अपने परिवार के साथ इसे मनाता है। यह एक राष्ट्रीय अवकाश है, इसलिए हर कोई काम की चिंता किए बिना त्योहार का आनंद लेता है। यह रात में और अधिक रोमांचक हो जाता है क्योंकि बहुत सारे आकाश-लालटेन हवा में छोड़े जाते हैं जो ऊंची उड़ान भरते हैं और रात के आकाश को रोशन करते हैं। दिवाली हमें जीवन में अच्छी चीजों के लिए धैर्य रखना सिखाती है।

बच्चे अपनी पसंदीदा मिठाई का आनंद लेने के लिए कई दिनों तक इंतजार करते रहते हैं। घरों को गंदगी से मुक्त करने के लिए उन्हें अच्छी तरह से साफ किया जाता है। स्वच्छता बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यह आपके कल्याण और स्वास्थ्य को निर्धारित करेगी। यह बहुत लंबे समय से हिंदू संस्कृति का हिस्सा रहा है और “अच्छे लोग हमेशा बुरे लोगों पर जीत हासिल करते हैं” के नैतिक पाठ को बढ़ावा देता है।

7) दिवाली की मिठाइयाँ और व्यंजन

दिवाली स्वादिष्ट मिठाइयों और स्वादिष्ट व्यंजनों का पर्याय है। इस त्योहारी सीज़न के दौरान परिवार विभिन्न प्रकार के पारंपरिक और घरेलू व्यंजनों का आनंद लेते हैं। गुलाब जामुन, जलेबी और रसगुल्ला जैसी मिठाइयाँ, साथ ही समोसे और पकौड़े जैसे नमकीन स्नैक्स भी बहुतायत में तैयार किये जाते हैं।

बिरयानी, पुरी और विभिन्न क्षेत्रीय व्यंजन जैसे विशेष व्यंजन भी परोसे जाते हैं। भारत में प्रत्येक क्षेत्र का अपना अनूठा दिवाली व्यंजन है, जो इसे भोजन के शौकीनों के लिए एक आनंददायक यात्रा बनाता है। दोस्तों और परिवार के बीच इन स्वादिष्ट व्यंजनों का आदान-प्रदान एक मधुर भाव है जो जीवन में खुशी और मिठास को साझा करने का प्रतीक है।

8) दिवाली 2023: क्या है खास

यहां कुछ चीजें हैं जो दिवाली 2023 को मानव मन के नजरिए से खास बनाती हैं:

दिवाली 2023 प्रियजनों के साथ मिलकर बुराई पर अच्छाई, अंधकार पर प्रकाश और अज्ञान पर ज्ञान की विजय का जश्न मनाने का समय है। यह हमारे मतभेदों को दूर करने और उन चीजों पर ध्यान केंद्रित करने का समय है जो हमें एकजुट करती हैं।
दिवाली 2023 पिछले वर्ष पर विचार करने और आशा के साथ भविष्य की ओर देखने का समय है। यह हमारे जीवन में अच्छी चीजों के लिए आभारी होने और आने वाले वर्ष के लिए नए लक्ष्य निर्धारित करने का समय है।
दिवाली 2023 हमारी संस्कृति और विरासत का जश्न मनाने का समय है। यह दिवाली की परंपराओं और रीति-रिवाजों के बारे में जानने और उन्हें भावी पीढ़ियों तक पहुंचाने का समय है।
दिवाली 2023 त्योहार की सुंदरता और उसके साथ आने वाले स्वादिष्ट भोजन का आनंद लेने का समय है। यह हमारे घरों और व्यवसायों को दीयों और मोमबत्तियों से रोशन करने और इस अवसर की खुशी का जश्न मनाने के लिए आतिशबाजी करने का समय है।

संक्षेप में, दिवाली 2023 सभी उम्र और पृष्ठभूमि के लोगों के लिए एक साथ आने और जीवन में अच्छी चीजों का जश्न मनाने का एक विशेष समय है। यह आशा, खुशी और खुशहाली फैलाने का समय है।

9) दुनिया भर में दिवाली

दिवाली से पहले के सप्ताह परंपरागत रूप से घर को फिर से सजाने, नए कपड़े और आभूषण खरीदने और मिठाइयां, सूखे मेवे और मेवे जैसे उपहारों का आदान-प्रदान करने का समय होता है। यह डिनर पार्टियों, आउटडोर फूड फेस्टिवल और शिल्प मेलों का मौसम है, जो मुख्य दिवाली उत्सव से पहले उत्साह बढ़ाने में मदद करते हैं।

इन पार्टियों में ड्रिंक और भरपूर फिंगर फूड की अपेक्षा करें, जिसमें आमतौर पर कबाब, तले हुए नमकीन स्नैक्स, तंदूरी ग्रिल और मसालेदार मिठाइयाँ शामिल होंगी।

10) निष्कर्ष

दिवाली उत्सव, चिंतन और आशा का समय है। यह प्रियजनों के साथ मिलने और जीवन में अच्छी चीजों का जश्न मनाने का समय है। यह पिछले वर्ष पर विचार करने और आशावाद के साथ भविष्य की ओर देखने का भी समय है।

जैसे ही दिवाली समाप्त होती है, हम त्योहार को अलविदा कह देते हैं और सामान्य स्थिति में लौट आते हैं। हालाँकि, दिवाली की भावना हमारे दिलों में रहती है। हम त्योहार के सबक अपने साथ लेकर चलते हैं, खुद को याद दिलाते हैं कि बुराई पर अच्छाई की हमेशा जीत होगी और प्रकाश हमेशा अंधेरे पर विजय हासिल करेगा।

हम आप सभी को सुखी एवं समृद्ध दिवाली की शुभकामनाएं देते हैं!

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Exit mobile version